जिंदगी

19575215

रेत सा मन लिए श्वप्न के द्वार हम , एक नदी का पता पूंछते आ गए ......