मन

2387695

छत पर खडि कपड़े सुखा रही थी तैरी याद में आंसु बहा रहे थें