शायरी

4625893

मोहब्बत जो ईस कदर उन्से हमे हो गई । उन्हे हमारी चाहत मैं डूबते हुऐ देखने के बाद।। डूब हम भी गये मोहब्बत मे उसके इसकदर । उसे अपनी मोहब्बत मे डूबा हुआ देखने के बाद।।