Arjun

19589541

" गम की परछाईयाँ यार की रुसवाईयाँ वाह रे मुहोब्बत ! तेरे ही दर्द और तेरी ही दवाईया "