Madhuri2

180979

दो तथ्य हमारे व्यक्तित्व को परिभाषित करते हैं एक हमारा धीरज, जब हमारे पास कुछ ना हो, दूसरा हमारा व्यवहार जब हमारे पास सब कुछ हो !!